माँ आदिशक्ति

sunil soni

रचनाकार- sunil soni

विधा- कविता

आदिशक्ति जगजननी
ज्वाला रूपी जगदम्बे ।
कष्ट मिटा दो तिमिर हटा दो
राह दिखाओ हे अम्बे ।।

एक बने हम नेक बने हम
शरण तुम्हारी हे अम्बे ।
तेरी महिमा दुनिया जाने
जयति जयति माँ जगदम्बे ।।

बिछुड़ गए जो उन्हें मिला दो
सबके बिगड़े काज बना दो ।
हाथ जोड़ हम स्तुति गावें
नमामि दुर्गे नमामि अम्बे ।।

सहज रूप में तुम हो अम्बा
जगजननी तुम हो जगदम्बा ।
काल देख बन जाती काली
जय दुर्गे जगदम्बे अम्बा ।।

नवदुर्गा एवम् नववर्ष के पावन पर्व पर सभी को मंगलमयी शुभकामनायें ।

सुनील सोनी "सागर"
चीचली (म.प्र.)

Views 67
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
sunil soni
Posts 12
Total Views 1.2k
जिला नरसिहपुर मध्यप्रदेश के चीचली कस्बे के निवासी नजदीकी ग्राम chhenaakachhaar में शासकीय स्कूल में aadyapak के पद पर कार्यरत । मोबाइल ~9981272637

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia