महक

Neelam Naveen

रचनाकार- Neelam Naveen "Neel"

विधा- कविता

जिसने मुफलिसी न देखी हो
वो क्या सच में गीत भाव रचेंगे !
सोचो!रोटी कपडा मकान को लाँघ,
आगे गयी जिनकी भूख व चाह !
परंतु आज भी कई वेदनाओं में
सिसकती, कंही कतरन ढकी सांसें !
खुली अधखुली झोपड़ियों के छिद्रों से
ढ़िभरीयों की रोशनी व तारों में ही
रोटी, कपडा, मकान की तो छोड़ो
वो गुरबतों का संबल तलासते हैं
रोटी की बस एक महक तलासते हैं !

डायरी से
नीलम नवीन 'नील'
4 जनवरी 2017

Views 113
Sponsored
Author
Neelam Naveen
Posts 12
Total Views 563
From Ranikhet Dist. Almora
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia