महक बाकी भी तक है

बसंत कुमार शर्मा

रचनाकार- बसंत कुमार शर्मा

विधा- गज़ल/गीतिका

छुआ था जुल्फ को तेरी, महक बाकी अभी तक है
पुरानी उस मुहब्बत की, कसक बाकी अभी तक है

छनन छन पायलों की सुन, जगा हूँ ख्वाव में हर पल
तुम्हारी चूड़ियों की वो, खनक बाकी अभी तक है

पुरानी हो गयी है अब, भले ही डाल फूलों की
मगर वो बचपने वाली, लचक बाकी अभी तक है

अमावस रात थी लम्बी, अँधेरे से लड़ा दम भर
दिया बुझने लगा लेकिन, चमक बाकी अभी तक है

जमी तो है जरा सी राख उस अंगार पर, लेकिन
कहीं अन्दर धधकती वो, लहक बाकी अभी तक है

निगाहें हट नहीं पाती, कहाँ तक रास्ते बदलें
तुम्हारे घर को’ जाती जो, सड़क बाकी अभी तक है

Views 25
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बसंत कुमार शर्मा
Posts 88
Total Views 1.3k
भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन प्रबंधक के पद पर कार्यरत, गीत, गजल/गीतिका, दोहे, लघुकथा एवं व्यंग्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment