मर जाने दो बेटियों को…

जयति जैन

रचनाकार- जयति जैन

विधा- कविता

मर जाने दो बेटियों को…

लिंग परिक्षण कर भेदभाव जताया
मारने को उसे औज़ारों से कटवाया
इतनी घ्रणा है उसके अस्तिव से तो
मर जाने दो बेटियों को

घोडा-गाडी, बंगला-पैसा नहीं चाहिये
स्वाभिमान- स्नेह भरी जिन्द्गी चाहिये
नहीं दे सकते तो
मर जाने दो बेटियों को…

घर के आंगन में पौधा तुलसी चाहिये
पहले नन्ही पौध को तो आंगन में लाइये
नहीं सींच सकते प्रेम से तो
मर जाने दो बेटियों को…

तेज़ाब डालकर मारना चाहा
छोटी-छोटी खुशियों के लिये तड़पाया
जीने के अधिकार नहीं दे सकते तो
मर जाने दो बेटियों को

नारी की हर क्षेत्र में तरक्की चाहिये
पहले घर की बेटी को तो सपने दिखाइये
नहीं जीने दे सकते खुलके तो
मर जाने दो बेटियों को…

लेखिका- जयति जैन, रानीपुर झांसी

Views 140
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
जयति जैन
Posts 26
Total Views 993
लोगों की भीड़ से निकली आम लड़की ! जो आज Pharmacist, Researcher, Writer and social है ! जिसे कुछ लोग Author Jayti के नाम से जानते हैं! दुनियाभर में अपनी पहचान बनाने को आतुर... दिल है जरा सी पहचान से संतुष्ट नहीं !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia