मन

Kokila Agarwal

रचनाकार- Kokila Agarwal

विधा- कविता

कभी सोचो कि
पल दो पल जियें
खुद के लिये यारो
कभी सोचो कि
कोई हो जहाँ
न हो कोई नज़र यारो
कभी सोचो कि
सोचो से भी
मिल जाये छुटकारा
कभी सोचो कि
न हो धूप हवा
और अंधेरा यारो
हंसो मत
ऐसी सोचो पर
है मुमकिन
ये मेरा मन है
जहां न कोई छुअन
अहसास न
बस मेरा ही
मन है।

Sponsored
Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Kokila Agarwal
Posts 50
Total Views 440
House wife, M. A , B. Ed., Fond of Reading & Writing

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia