मन

Pankaj Trivedi

रचनाकार- Pankaj Trivedi

विधा- कविता

मन – पंकज त्रिवेदी
**

मन !
ये मन है जो कितना कुछ सोचता है
क्या क्या सोचता है और क्या क्या
दिखाते हैं हम…

मन !
जो भी सोचता है वो न हम कहते हैं
न वोही सोचते हैं जो हम कह देते हैं
छलते हैं हम…

मन !
कभी हमें आनंद देता है हमारे झूठ के लिए
कभी हमें ही कोसता रहता है झूठ के लिए
ठगते हैं हम…

मन !
ऐसा भी हों कि जो चाहें वोही कहते हैं हम
जो सोचें वो अच्छा हों और उसी को सुनें हम
सुनते हैं हम…

मन !
कभी अपने दिल की बात मानता है तो कभी
किसीके बहकावे में आकर कुछ भी कर देते हैं
कर देते हैं हम…

मन !
यही मन है जो दिन-रात सपने दिखाता है
यही मन है जो सपनों से ज़िंदगी सजाता है
ज़िंदगी बनाते हैं हम…

मन !
मन ही हमें भटकने को मजबूर करता है तो
मन ही हमें कुसंग से सत्संग करवाता है और
इंसान बन जाते हैं हम…

मन !
मन चल है, अचल भी है मन ही मरकट है
मन ही पहचान है, मन साधना का साधन
मन ही है तो है हम….

*______________________*

Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pankaj Trivedi
Posts 22
Total Views 34
संपादक : विश्वगाथा (हिन्दी साहित्य की अंतर्राष्ट्रीय त्रैमासिक मुद्रित पत्रिका) / लेखन- कविता, कहानी, लघुकथा, निबंध, रेखाचित्र, उपन्यास ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia