मन मे उठे हिलोर

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

रात चाँदनी चाँद की ,कालिंदी कर शोर !
देख नजारा ताज का,मन में उठे हिलोर !!

ज्यों चंदा की चाह में ,.पागल रहे चकोर!
त्यों साजन के साथ को,मन मे उठे हिलोर!!

आँखे मेरी हो गयी ,.मानो एक सराय !
जो भी आता है वही इनमे जाय समाय!!
रमेश शर्मा

Sponsored
Views 16
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 175
Total Views 3.2k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia