मन में ख्यालों के

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- कविता

🌹🌹🌹🌹
मन में ख्यालों के
बुल बुले उठटते हैं।
कुछ सुलझे,
कुछ अनसुलझे हैं।
🌹
कुछ दिलों में सूल बनकर।
तो कुछ खिलते फूल बनकर।
🌹
मन भी एक अजीब परिंदा है।
कब कहाँ उड़ जाता है।
पता ही नहीं चलता है।
🌹
भटकता,ना जाने क्या ढूंढता है।
जितना भी मुट्ठी में कैद करो,
ये दूर-कहीं-दूर भाग जाता है।
🌹
शांत शिथिल निर्मल बस
एक शून्य में खो जाता है।
कभी तो खामोशी का
चादर ओढ़ सो जाता है।
🌹
कभी गुनगुनाता,
कभी फुसफुसाता,
मुझको मुझसे हीं
दूर ले जाता है।
🌹
क्या चाहता ?
क्या मांगता ?
ना इसे पता
ना मुझे पता।
🌹
मन में ख्यालों के
बुल बुले उठते हैं।
कुछ सुलझे,
कुछ अनसुलझे हैं।
🌹🌹🌹🌹—लक्षमी सिंह💓😊

Views 147
Sponsored
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 149
Total Views 46.1k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia