” ————————————————– मन मयूर है नाचे ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

उम्र सीढ़ीयां चढ़ती जाये , यौवन भरे कुलांचे !
कैसे दिल का हाल बतायें , मन मयूर है नाचे !!

रूप रंग तो बरसा ना है , दुख की छांव घनेरी !
काया मिली सलोनी ऐसी , कैसे इसे तराशें !!

कारी कारी अँखियों में जो , उजले ख़्वाब बसे हैं !
न्यारे न्यारे लगते है वे , सारे मुझे जहां से !!

जीवन की परिभाषा जानी , गूढ़ अर्थ है इसके !
औरों के मन की हलचल को , अंतर्मन से बाँचें !!

घाट घाट पर देखी फिसलन , बरतें बड़ी सजगता !
लोग यहां हैं इसी ताक में , कैसे भरें परांचे !!

बोल यहां हो तोल तोल कर , और हंसी को साधें !
अपने दर्पण धूल चढ़ी हो , लोग ओर को जांचे !!

हंसना है तो खुद पर हंस लो , यही राज़ है गहरा !
वरना झूंठे किस्से यों भी , लगते सबको सांचे !!

आज निशाना खुद पर साधूं कल फिर अग्नि परीक्षा !
परिणामों की उम्मीदों से , खिलना चाहें बांछें !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 127
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 122
Total Views 29.2k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia