मनहरण

सगीता शर्मा

रचनाकार- सगीता शर्मा

विधा- घनाक्षरी

मनहरण.
8887+4

प्यार हो सम्मान हो.
और दिलो में मान हो.
संस्कार दिल में रहे
रंग रूप साथ हो.

रूप रंग तब खिला.
आज पिया जब मिला.
दिल की ये चाहत है.
यू हाथो में हाथ हो.

प्यार हो इकरार हो.
न कभी तकरार हो.
मन से मन जो जुडे.
बिन बोले बात हो

संग जो सजन रहे.
न कोई शिकवे रहे.
प्यार की बस बात हो
न खतम रात हो.

संगीता शर्मा.
15/3/2017

Sponsored
Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सगीता शर्मा
Posts 20
Total Views 435
परिचय . संगीता शर्मा. आगरा . रूचि. लेखन. लघु कथा ,कहानी,कविता,गीत,गजल,मुक्तक,छंद,.आदि. सम्मान . मुक्तर मणि,सतकवीर सम्मान , मानस मणि आदि. प्यार की तलाश कहानी पुरस्क्रति.धूप सी जिन्दगी कविता सम्मानित.. चाबी लधु कथा हिन्दी व पंजाबी में प्रकाशित . संगीता शर्मा.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia