मनहरण घनाक्षरी / कैसी सरकार है.

Ashok Kumar Raktale

रचनाकार- Ashok Kumar Raktale

विधा- अन्य

मेरा भी कहा न माने, तेरा भी कहा न माने,
किसी का कहा न माने, कैसी सरकार है
सुने ये गरीब की ना, सुने ये अमीर की ही,
सुने नहीं बात कोई, जीना दुशवार है
बाजारों के भाव कभी, गाड़ियों का भाडा देखूं.
देखूँ फौज बेकारों की, लम्बी ये कतार है
उस पर भी ये कर, नित-नित नये-नए,
और नए-नए कर, ले के ये तैयार है ||

~ अशोक कुमार रक्ताले.

Views 56
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ashok Kumar Raktale
Posts 16
Total Views 342

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments
  1. हार्दिक आभार आदरणीय रमेश शर्मा साहब.सादर.