मनभावन सावन

aparna thapliyal

रचनाकार- aparna thapliyal

विधा- हाइकु


बूँदों का नृत्य
सोंधी मिट्टी महकी
हवा बहकी ।
#####################

मोर मचला
घन गाई गज़ल
नृत्य छलका ।
#######################

मोरनी मोर
घन घटा का शोर
मस्तानी भोर।
########################

कारे बदरा
लताओं का सेहरा
भीगे मनवा।
#########################

स्वाती की बूँदें
आसमान से कूदें
प्यास बुझा दें।

#######################

सावन आया
अवनी मन भाया
संतुष्टि लाया।
अपर्णा थपलियाल"रानू"
८.०७.२०१७

Views 113
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
aparna thapliyal
Posts 31
Total Views 327

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia