” मदहोशियाँ छाई हुई हैं ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

चकाचौंध है ,
सज़ धज ऐसी !
हम तो क्या ,
लुट गये परदेसी !
खुद में ही –
डूबे डूबे हो !
खामोशियाँ ढाई हुई हैं !!

दीवानों सा ,
चढ़ा खुमार है !
महकी बहकी ,
ये बहार है !
प्यासे प्यासे –
अधर कह रहे !
सरगोशियाँ चाही हुई हैं !!

ना सम्मोहन ,
वशीकरण है !
डूबा डूबा ,
जाये मन है !
दुनिया की अब –
खबर किसे है !
स्मृतियां मन भाई हुई हैं !!

Sponsored
Views 208
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 122
Total Views 29.1k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia