मत्तगयन्द सवैया

राम बली गुप्ता

रचनाकार- राम बली गुप्ता

विधा- कविता

सुंदर पुष्प सजा तन-कंचन
केश -घटा बिखराय चली है।

अंजित नैन कटार बने
अधरों पर लाल लुभाय चली है।।

अंगहि चंदन गंध भरे
मद-मत्त गयंद लजाय चली है।

हाय! गयो हिय मोर सखे!
कटि जूँ गगरी छलकाय चली है।।

रचना-रामबली गुप्ता

Views 42
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia