मतलब

डॉ०प्रदीप कुमार

रचनाकार- डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

विधा- कविता

" मतलब "
—————

मतलब……
केवल स्वार्थ नहीं !
लेकिन यह……..
कोई परार्थ नहीं |
बहुत से मायने हैं
इस मतलब के !
जैसे कि —
अर्थ
तात्पर्य
समझ
स्वार्थ
स्वहित !!
यदि स्वार्थ और
स्वहित ही है…
गूढ़तम रहस्य
मतलब के
तो इसमें इंसान
का क्या दोष ?
क्यों कि —
सत्व-रज-तम….
इन्हीं गुणों से
इंसान का रूप बदलता है |
काम-क्रोध-मद-लोभ
जैसे कषायों और
चित्त-वृत्तियों की प्रबलता
मनुज के……..
वास्तविक स्वरूप को
आवरण और
विक्षेप शक्ति द्वारा
ढ़क दी जाती हैं
तो मतलब का
मायावी स्वरूप
प्रस्फुटित होता है
जो उत्कर्ष को
अपकर्ष में !
विकास को
पतन में !
आदि को
अंत में !
मानुष को
अमानुष में
और सत्य को
असत्य में
परिवर्तित करके
इंसान से उसकी
इंसानियत…….
छीन लेता है
और लहराता है
परचम इस….
मतलब का ||
——————————
– डॉ० प्रदीप कुमार "दीप"

Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ०प्रदीप कुमार
Posts 77
Total Views 1.2k
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान (2016-17) मंजिल ग्रुप साहित्यिक मंच ,नई दिल्ली (भारत) सम्पर्क सूत्र : 09461535077 E.mail : drojaswadeep@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia