मतलबी दुनिया

sudha bhardwaj

रचनाकार- sudha bhardwaj

विधा- लघु कथा

लघुकथा
——————
मतलबी दुनिया
——————–
क्या जरूरत थी तुझे इस बाग़ीचे में आने की ?अम्बियों का बहुत शौक है ना
तुझे पर तझे ये नही मालूम कि यहँा इंसान के रूप में शैतान बसते है। तुझे
कुछ हो जाता तो मैं मँा को क्या मुँह दिखाता बता जरा ! और आइन्दा…… यहँा कभी भूलकर भी मत आना। अरे! तुझे अभी बहुत कुछ सीखना है।…
यें दुनिया वैसी नही जैसी तू समझता है। यँहा सभी के मुख पर मुखौटे लगे..
तो तुझे तुझ जैसे तुच्छ प्राणी को कोई क्या समझेगा। चल उठ अब खोल….
अपने पंख और धीरे-धीरे उड़ान भर तभी बचेगा तू नही तो ये तुझे ढूंढ़कर..
जिवित देंखकर तुझे फिर से अपना निशाना बनायेंगें। किसी भूल में मत……
रहना कि यँहा अब कोई सिद्बार्थ तेरी या मेंरी जान बचाने आयेंगा।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

Views 47
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
sudha bhardwaj
Posts 53
Total Views 687

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia