मतगयंद सवैया

ATUL PUNDHIR

रचनाकार- ATUL PUNDHIR

विधा- अन्य

दीप वही तम जो हरता जुगनू जलता न जला तम पाये
प्यास हरे हर बूँद सुधा बसुधा हर पीर पिये मुसकाये
नीरज कीचड़ अंग लगे अपनी पर कोमलता न भुलाये
दीप बने न सुधा मनु है मनु तो मनु के मन पीर बड़ाये

अतुल पुण्ढीर

Sponsored
Views 25
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ATUL PUNDHIR
Posts 5
Total Views 38

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia