मज़ा आ गया।

Neelam Sharma

रचनाकार- Neelam Sharma

विधा- गज़ल/गीतिका

गिरह- हंसके जीने का सीखा नया इक सबक,
ग़म जहां से छिपाया, मज़ा आ गया।
(१)

कब से प्यासी थी, राधा के उर की धरा,
प्रीति बदरी जो छाई, मज़ा आ गया।

कान्हा लुक-छुप निहारे, प्रिय राधिका,
राधे ज्यों मुस्कुराईं,मज़ा आ गया।

देखा राधा ने कान्हा को पहली नज़र,
आत्मा खिलखिलाई मज़ा आ गया।

देखा मुरली बजाते जो, घनश्याम को,
सुध बुध ही बिसराई,मज़ा आ गया।

रोज बंसी बजा, गोपियां छेड़ता,
राधा बंसी छिपाई,मज़ा आ गया।

खाता चोरी से माखन, मटकियां फोड़ता,
मैया किन्ही पिटाई,मज़ा आ गया।

(२)
हम सुखी थे,छिपाके ग़मों की दास्तां,
ग़म जगाने सनम,बे-वजा आ गया।

जिसकी खातिर भुलाया था हमने जहां,
आज हमको ही देने वो, सज़ा आ गया।

जिनसे बनती हमारी नहीं थी कभी,
आज देने हमें वो, रज़ा आ गया।

सिर से पांव तक जो ढका झूठ से,
आज करने हमारी कज़ा आ गया।

आज नूर-ए- नीलम से सजी है ग़ज़ल
बिन बहृ के भी सुनके, मज़ा आ गया।

नीलम शर्मा

Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neelam Sharma
Posts 133
Total Views 879

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia