मजदूर (कर्म पुजारी)—डी. के. निवातियाँ

डी. के. निवातिया

रचनाकार- डी. के. निवातिया

विधा- कविता

क्यों देखे जग घृणा से, मैं नही कोई अत्याचारी हूँ !
दुनिया कहे मजदूर मुझे, पर मैं तो कर्म पुजारी हूँ !!

उठ चलता हूँ रवि संग
हर पल ताप सहता हूँ
भूख तृष्णा मेरे दोस्त
जीवन भर संग रहता हूँ

क्यों देखे जग घृणा से, मैं नही कोई अत्याचारी हूँ !
दुनिया कहे मजदूर मुझे, पर मैं तो कर्म पुजारी हूँ !!

कर्म पथ पर चलना धर्म
अनुबंध ताउम्र निभाता हूँ
सुख दुःख हो लाभ हानि
मंद मुस्कान से जी जाता हूँ !!

क्यों देखे जग घृणा से, मैं नही कोई अत्याचारी हूँ !
दुनिया कहे मजदूर मुझे, पर मैं तो कर्म पुजारी हूँ !!

मुझ से ही बने जो धनाढ्य
उनके हाथो दुत्कारा जाता हूँ
रहता हूँ मस्त मलंग कुछ में
नहीं ज्यादा को हाथ फैलाता हूँ

क्यों देखे जग घृणा से, मैं नही कोई अत्याचारी हूँ !
दुनिया कहे मजदूर मुझे, पर मैं तो कर्म पुजारी हूँ !!

अग्नि, वायु, सागर, शिला भेद
हर शै: में खुद की राह बनाता हूँ
रखता हूँ अदम्य साहसिक बल
कर्मपूजा में अपना लहू चढ़ाता हूँ !!

क्यों देखे जग घृणा से, मैं नही कोई अत्याचारी हूँ !
दुनिया कहे मजदूर मुझे, पर मैं तो कर्म पुजारी हूँ !!

निर्धन हूँ मैं धन से तो क्या
अंतर्मन से बड़े दिल वाला हूँ
हूँ मंजिल से अनजान तो क्या
जग की राह मैं बन जाता हूँ !!

क्यों देखे जग घृणा से, मैं नही कोई अत्याचारी हूँ !
दुनिया कहे मजदूर मुझे, पर मैं तो कर्म पुजारी हूँ !!

मेरी मेहनत के पसीने से
बने तुम्हारे महल चौबारे
मठ, मजार, मंदिर, मस्जिद
गिरिजाघर और गुरुद्वारे
मैंने खुद को खोया इनमे
तब चमके ताज के गलियारे
किसने जानी मेरी कीमत
बस मिट्टी में खो रह जाता हूँ !!

क्यों देखे जग घृणा से, मैं नही कोई अत्याचारी हूँ !
दुनिया कहे मजदूर मुझे, पर मैं तो कर्म पुजारी हूँ !!

!
!
!
डी. के. निवातियाँ

Views 125
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डी. के. निवातिया
Posts 169
Total Views 24.1k
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का ह्रदय से आभारी तथा प्रतिक्रियाओ का आकांक्षी । आप मुझ से जुड़ने एवं मेरे विचारो के लिए ट्वीटर हैंडल @nivatiya_dk पर फॉलो कर सकते है. मेल आई डी. dknivatiya@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia