* मंज़िलों के दीप*

Dharmender Arora Musafir

रचनाकार- Dharmender Arora Musafir

विधा- गज़ल/गीतिका

मेरी हिम्मत देखकर जब रास्ते चलने लगे !
मंज़िलों के दीप हर सू खुद ब खुद जलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::
हसरतें दिल की जगी सब थी निहां जो अब तलक !
इन निगाहों में शगुफ्ता ख्वाब फ़िर पलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::
गैर मुमकिन ये गज़ल है कह रहे थे लोग जो !
आज़ अपना सर झुकाए हाथ वो मलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::
शायरी की जब मिरे मन में लगन सी लग गई !
आँखों आँखों मे हमारे रात दिन ढलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::
हौंसले की जोत लेकर जब मुसाफ़िर चल दिया !
दौर गर्दिश के सभी फ़िर दूर से टलने लगे !!
::::::::::::::::::::::::

धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफिर"
9034376051

Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dharmender Arora Musafir
Posts 74
Total Views 859
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia