मंगलमय पुकार करूँ

राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय

रचनाकार- राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय

विधा- कविता

यदि जीवित रहूँ माते, तेरा ही श्रृंगार करूँ
अर्पण करूँ सर्वस्व तूझे, हर त्याग से सत्कार करूँ;
हो त्याग ऐसा वीरों सी, कलुषित विविध विकार हरूँ
पुष्पित – पल्लवित कर दूँ पुण्य धरा को, मंगलमय पुकार करूँ !
निश्चय आज प्रबुद्ध जन मौन, कैसे सत्य विचार धरूँ
वनिताओं- वृद्धों को निर्भय कर दूँ , प्रयत्न पूर्ण प्रकार करूँ
हर व्यथा- कथा मिटती रहे, महात्माओं का आभार करूँ
पुष्पित- पल्लवित कर दूँ पुण्य धरा को, मंगलमय पुकार करूँ !
समरसता अब खो चुकी , न्याय – धर्म की धार धरूँ
ज्ञान- विज्ञान में पहुँच रहे, सदा रक्षा में बारंबार मरूँ
धरणी को सींचित कर श्रुति स्नेह से, सुंदरतम् व्यवहार करूँ
पुष्पित- पल्लवित कर दूँ पुण्य धरा को, मंगलमय पुकार करूँ !
अरि बहु दीखते आज मही पर, त्वरित तार- तार करूँ
प्रखर तेज द्विजों का दीप्त , सत्कर्मों का सारा सार धरूँ
जन तप्त हुए अत्यधिक द्रोह से, द्रोहियों का भाग्य क्षार करूँ;
पुष्पित-पल्लवित कर दूँ पुण्य धरा को, मंगलमय पुकार करूँ !

अखण्ड भारत अमर रहे !
वन्दे मातरम् !
जय हिन्द !

©

कवि आलोक पान्डेय

Views 34
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय
Posts 28
Total Views 541
एक राष्ट्रवादी व्यक्तित्व कवि, लेखक , वैज्ञानिक , दार्शनिक, पर्यावरणविद् एवं पुरातन संस्कृति के संवाहक.....संरक्षक...

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia