भ्रूण हत्या

Manju Bansal

रचनाकार- Manju Bansal

विधा- कविता

माँ! मुझे मत मारो
अपनी कोख के नूर को
इस तरह स्वयं से जुदा न करो।
चंद लम्हे ही तो हे हैं
जहाँ में आँखें खोले मुझे
बेटी हूँ इसलिये से दंश
झेलना पड़ रहा मुझे ।
मैं कोई गुनहगार नहीं
तुम्हारे ऊपर बोझ भी नहीं ।
अपने दामन में समेटा तो होता मुझे
अपने वात्सल्य व ममता से
सींचा तो होता मुझे ।
शायद तेरी उम्मीदों पर मैं खरा उतरती
और तुम्हारी बेटे की चाह को
बेटा बनकर पूरा करती
बेटा बनकर पूरा करती ।।

Sponsored
Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Manju Bansal
Posts 7
Total Views 128

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia