***’भ्रष्टाचार’ है एक अभिशाप***रोको इसे, मत फलने दो

Neeru Mohan

रचनाकार- Neeru Mohan

विधा- कविता

*फैला है कैसा भ्रष्टाचार,
पढ़े लिखे हैं यहाँ बेकार,

*अनपढ़ करते देश पर राज़,
ऑफिस दफ्तर या दुकान,
हर तरफ है भ्रष्टाचार|

*नेता करते हैं व्याभिचार,
हर तरफ यहाँ उन्हीं का राज|

*नौकरशाही का है राज,
प्रजातंत्र पर हो रहा प्रहार|

*पढ़े-लिखों का नहीं है मोल,
नेताओं का मच रहा शोर|

*रोको इसे, मत फलने दो,
भ्रष्टाचार को आगे न बढ़ने दो|

*जन-जन की है यही पुकार,
खत्म करो यह भ्रष्टाचार|
खत्म करो यह भ्रष्टाचार|

Sponsored
Views 38
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neeru Mohan
Posts 105
Total Views 6.8k
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on my blog (साहित्य सिंधु -गद्य / पद्य संग्रह) myneerumohan.blogspot.com Mail Id- neerumohan6@gmail.com mohanjitender22@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia