भैंस का दर्द! (एक गंभीर कविता)

Neeraj Chauhan

रचनाकार- Neeraj Chauhan

विधा- कविता

धार्मिक अनुष्ठानों और तीक्ष्ण कानूनों से,
गाय तो हो गयी हैं 'राष्ट्रमाता'
पर मेरा क्या?
फिरी सत्ताधीशो की नज़रे
वह हो गयी भाग्य विधाता
पर मेरा क्या?

सिर्फ वही नही
उसका संपूर्ण गौवंश
उतरा है खरा,
पवित्रता के सभी मानदंडों पर
अब उनकी हत्या पर
इंसानों जैसी ही सजा हैं
पर मेरा क्या?
गाय से कोई मतभेद नही है मेरा
वरन शिकायत हैं मुझे
इस निर्मम व्यवस्था और समाज से,
जिसने जी भर पीया हैं मेरा दूध
पर मुँह फेर लेते है
मुझ पर गिरने वाली गाज से
मुझेमे और तुममे बस फ़र्क़ इतना है
की तुम श्वेतवर्णी हो
मैं काली हूँ
सौभाग्यशाली हो तुम,
की कटने से बच गयी हो..
धन्य हैं तुम्हारा जन्म.. तुम्हारा गौवंश

पर अफ़सोस
मुझ पर मजाक बनना रहेगा तब तक जारी
जब तक मैं गौरी नही हो जाती
चलती रहेगी मुझ पर आरी
हमेशा की तरह
क्योंकि मैं निरी पशु हूँ
तुम माता हो?

एक विनती हमेशा करुँगी
विधाता से
की मुझे तुम्हारी ही कोई रिश्तेदार बना दे
की तुम्हारी कुछ छाया मुझ पर आ सके
तुम्हारी तरह बच सके मेरा वंश भी
वहशियों की आरी चलने से.. .

– ©नीरज चौहान

Views 56
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neeraj Chauhan
Posts 57
Total Views 5.6k
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia