भी होगा

डॉ मधु त्रिवेदी

रचनाकार- डॉ मधु त्रिवेदी

विधा- गज़ल/गीतिका

लोट पास मेरे फिर आना भी होगा
हाल-ए जिगर सब समझाना भी होगा

मेरी प्यारे से प्रेमी बन जाओ तो
कजरारी आँख में बिठाना भी होगा

ब्याह किया है जब तुम ने मुझसे तो अब
सात वचन से साथ निभाना भी होगा

घर की हर लोक रीति का कर के पालन
सब लोगों को खुश अब रखना भी होगा

पटरानी हो मेरे मनमंदिर की तुम
लोगों का मान अभी रखना भी होगा

प्यार बहुत करता हूँ दिल भी दिया तुझे
देखो क्या मुझ सा दीवाना भी होगा

काजल बन सजते हो आँखों में हर दिन
पास बैठ तेरा नजराना भी होगा

हर काम को जरा ढंग से करना सीखो
काम किसी पर अब इतराना भी होगा

भोजन न बनाना घर पर खाने को तुम
संग चल कर होटल में खाना भी होगा

बैठ करो सब लोग यहाँ इन्तजार अब
पहले भोग बड़ों का अभी लगाना होगा

रात हो रही है काली काली सी अब
लोरी गा कर आज सुलाना भी होगा

Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ मधु त्रिवेदी
Posts 273
Total Views 3k
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र टाइम्स दिल्ली आदि अखबारों में रचनायें विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia