भाई

Govind Kurmi

रचनाकार- Govind Kurmi

विधा- कविता

उसकी आंखों में हमें अपना ही अक्श नजर आता है ।
जब कोई ना हो साथ देने वाला तब वो शख्स नजर आता है ।

कहने को तो सिर्फ उन्हें भाई कहा जाता है ।
पर मेरे दिल में उनको खुदा से पहले नवाजा जाता है ।

हाथ थाम कर जिसने मेरा हमको चलना सिखाया ।
हर मुस्किल में सिर्फ उसीने हमारा साथ निभाया ।

बात बात पर बचपन में वो हमसे झगड़ा किया करता था ।
हम रुठ भी न पाये वो पल में मना लिया करता था ।

हमारी हर एक खुशी की खातिर वो अपने गम भुला देता है ।
कभी-कभी तो वो हमको खुशियों में भी रुला देता है ।

दर्द छुपा कर हमारे लिये जो हरपल मुस्कुरा देता है ।
हमारे लिये तो सिर्फ वही सबसे बड़ा अभिनेता है ।

उसकी आंखों में हमें अपना ही अक्श नजर आता है ।
जब कोई ना हो साथ देने वाला तब वो शख्स नजर आता है ।

Views 105
Sponsored
Author
Govind Kurmi
Posts 32
Total Views 2.6k
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment