भली करें श्री राम

हेमा तिवारी भट्ट

रचनाकार- हेमा तिवारी भट्ट

विधा- दोहे

(✍हेमा तिवारी भट्ट✍)
🙏भली करें श्री राम🙏

'रा' है द्योतक अग्नि का,
'म' शीतल वारि धाम|
संतुलन अगर चाहिए,
जपिए निशदिन राम||1||

'र' रावण लंकेश हुआ,
'र' से राम का नाम|
हो 'र' रत शुभ कर्मन में,
भली करेंगे राम||2

राम नाम पूंजी बड़ी,
रखो इसे संभाल|
केवल जपो न राम को,
लो जीवन में ढाल||3||

यूँ रा से दोनों रचे,
रावण हो या राम|
विभेद करनी ही करे,
वरना इक है चाम||4||

सुप्रभात 🙏💐😊
✍हेमा तिवारी भट्ट✍

Sponsored
Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
हेमा तिवारी भट्ट
Posts 79
Total Views 1.2k
लिखना,पढ़ना और पढ़ाना अच्छा लगता है, खुद से खुद का ही बतियाना अच्छा लगता है, राग,द्वेष न घृृणा,कपट हो मानव के मन में , दिल में ऐसे ख्वाब सजाना अच्छा लगता है

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia