भक्ति गीत

रागिनी गर्ग

रचनाकार- रागिनी गर्ग

विधा- गीत

भक्ति गीत

दिल मेरा तूने चुरा लिया .
मोहन मुरली वाले
दिल मेरा तूने चुरा लिया
मोहन मुरली वाले
बड़े नैन मद भरे कटीले .
मोटे मोटे मस्त नशीले .
दो मदिरा के प्याले.
दिल मेरा तूने चुरा लिया
मोहन मुरली वाले
मृदु मुस्कान मोहनी मूरत
कितनी भोली तेरी सूरत .
बलि बलि जाऊँ प्यारे
दिल मेरा तूने चुरा लिया
मोहन मुरली वाले
तेरी छवि को देख साँबरी .
खो सुध वुध मैं भई बाबरी .
नहीं होश है प्यारे ..
दिल तूने मेरा चुरा लिया
मोहन मुरली वाले

रागिनी गर्ग
रामपुर यू.पी .
स्वरचित

Sponsored
Views 8
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रागिनी गर्ग
Posts 27
Total Views 3.5k
मैं रागिनी गर्ग न कोई कवि हूँ न कोई लेखिका एक हाउस वाइफ हूँ| लिखने में मेरी रुचि है| मेरी कोई रचना किसी भी साहित्य में प्रकाशित नहीं है| फेसबुक की पोस्ट पर कमेंट करती रहती थी| लोगों को पसंद आते थे| दोस्तों ने कहा तुम्हें लिखना चाहिए, कोशिश कर रही हूँ|

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia