बड़ी नफ़रतें है दिलों में आजकल !!

Surya Karan

रचनाकार- Surya Karan

विधा- गज़ल/गीतिका

बड़ी नफ़रतें है दिलों में आजकल !!

मग़र दिलचस्प वाकया कुछ और ही है ।

जो असल परेशानी का सबब है ;

उसे कोई नहीं जानता ?

हैरत में हूँ ; कसम से……;

वो मुझे मैं उसे नहीं पहचानता ?

जाने किन गर्द के सायों में,भटक रहे नौजवाँ
साज़िश से बेखबर ;ख़ुद अपनी जुबाँ
नहीं जानता

आता है दुश्मन अक्सर;मददगारों के भेष में जो हमदर्द दिखता है ;ये उनका मंसूबा
नहीं जानता

बँट गए वायज यहाँ ;मज़हब के नाम पर
अब तो ख़ुद ख़ुदा भी ;अपना माकूल घर. नहीं जानता

शिद्दत से घर किये बैठी ;है परदेश की चाहत
वहाँ बेगैरती से जीने का ;अभी हुनर
नहीं जानता

जो सोचते है ;रहमत बरसेगी नई वादियों में
वो दिल के जख्म भरने का ;मरहम
नहीं जानता

घर के फ़साद घर ही में रहें ;तो अच्छा है "साहिल"
सुबह का भुला शाम को घर आ जाये उसे मैं ;भुला नहीं मानता

S K soni🌞
For more like my page sahil on FB

Views 4
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Surya Karan
Posts 11
Total Views 60
Govt.Teacher, M.A. B.ed (eng.) Writer.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia