” बड़ी तीखी है , धार कजरे की ” !!

Bhagwati prasad Vyas

रचनाकार- Bhagwati prasad Vyas " neerad "

विधा- गीत

कुंदन देह ,
निखरी निखरी !
आभूषण से ,
छवि है निखरी !
जगी उम्मीदें –
सिर चढ़ बोलें !
बड़ी तीखी है ,
मार नखरे की !!

चंचल नयना ,
कजरारे से !
हम तो सब कुछ,
हैं हारे से !
देहरी पर –
वक़्त हरकारा !
बहकी हुई ,
बयार गजरे सी !!

रूप दमकता ,
दर्पण देखे !
भाव तुम्हारे ,
रहते ऐंठे !
हाथ नहीं कुछ –
रहा निरखना !
चुरा गयी हो ,
तुम नज़रें भी !!

Views 162
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Bhagwati prasad Vyas
Posts 81
Total Views 23.7k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia