बोलो माँ

arti lohani

रचनाकार- arti lohani

विधा- कविता

कैसे तुझे पुकारूँ मॉ ( कविता)
— आरती लोहानी
कैसे तुझे पुकारूँ हे मॉ !
बोल कोख में क्यों मारा ,मॉ !
कैसे आप बनी हत्यारिन ।
मातृत्व आपका हारा , मॉ !!१!!

थी क्यो बोझ धरा पर ,बोलो !
तू इतना बतला दे मुझको !
क्या तेरी सेवा ना करती ।
तू इतना समझा दे मुझको !!२!!

बस, इतना बतलादे मुझको ।
भाई जैसे मैं ना पढ़ती ।
क्यों इतनी नफ़रत थी मुझसे ।
मैं कुल की इज्जत ही बनती !!३!!
तुमको किंचित दया न आयी ।
सॉसें मेरी धड़क रहीं थीं ।
मेरे सपने चूर कर दिये ।
आने को मैं मचल रही थी ।।४!!
— आरती लोहानी ( पंजाब )

Sponsored
Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
arti lohani
Posts 36
Total Views 779

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia