बेशरम

विजय कुमार नामदेव

रचनाकार- विजय कुमार नामदेव

विधा- अन्य

दिल ही है बेशर्म या दिलदार बेशरम।
करना नही है प्यार का व्यापार बेशरम।।

लड़ने पे है अमादा तो लड़ता नही क्योकर।
क्यों डर के भाग जाता है हर बार बेशरम।।

हर वक्त मुझसे चाहता लब चूमता रहूँ।
मुझसे भी ज्यादा लगता मेरा यार बेशरम।।

यह बात अलग है कि अभी कुछ नही हूँ मैं।
ढूंढेगा मुझको एक दिन संसार बेशरम।।

इसको ही मेरी दोस्तों तुम सल्तनत कहो।
लिखे है मैंने शे'र जो दो चार बेशरम।।

Views 54
Sponsored
Author
विजय कुमार नामदेव
Posts 13
Total Views 7.5k
सम्प्रति-अध्यापक शासकीय हाई स्कूल खैरुआ प्रकाशित कृतियां- गधा परेशान है, तृप्ति के तिनके, ख्वाब शशि के, मेरी तुम संपर्क- प्रतिभा कॉलोनी गाडरवारा मप्र चलित वार्ता- 09424750038
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia