बेवजह गीतिका छल रही है मुझे

Pushpendra Rathore

रचनाकार- Pushpendra Rathore

विधा- गज़ल/गीतिका

आज फिर से हवा छल रही है मुझे,
महक उसकी अभी मिल रही है मुझे,

दूर मेरा पिया है न जाने कहां,
याद फिर क्यों यहां डस रही है मुझे,

हिचकियां दें गवाही मुझे आज भी,
रूह मेरी स्मरण कर रही है मुझे,

स्वाति अब तू बरस जा न कर बेरुखी,
मैं पपीहा तन्हा कर रही है मुझे,

आज निष्ठा सभी खत्म है शब्द की,
बेवजह गीतिका छल रही है मुझे।

पुष्प ठाकुर

Views 8
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pushpendra Rathore
Posts 21
Total Views 279
I am an engineering student, I lives in gwalior, poetry is my hobby and i love both reading and writing the poem

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia