बेताब कलम

pratik jangid

रचनाकार- pratik jangid

विधा- लेख

कलम भी चलने को बेताब हे . और लब्ज होटो से फिसलने को ,
अब तो कागज़ का पन्ना भी थम सा गया हे कलम की नोक को चूमने को
अल्फाज़ मेरे चारो और बिखरे पड़े हे . और पड रहा हु किसी मशहूर कवी की कविताओ को…

Views 16
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
pratik jangid
Posts 18
Total Views 335

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia