“बेटी”

रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

रचनाकार- रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

विधा- कविता

बेटी नहीं तो कल नहीं है।
बेटी है तो सुफल यहीं है।
बेटी है तो संसार है सुंदर।
बेटी है तो अरमान है सुंदर।
अन्तरज्योति है सपनों की।
ज्योति है बेटी नयनों की।
बेटी माँ की आंचल है।
फूल बगिया की आँगन है।
भाई के कलाई की बन्धन है।
प्यारी सी दुलारी सी चन्दन है।
माँ-बाप के सपनों की रानी है।
सुख-दुख में साथ निभाती है।
दो कुलों का नाम बढाती है।
परिवार का बोझ उठाती है।
बेटी है तो घर आंगन है
परिवार में सुन्दर सावन है।
कदम से कदम मिलाती है।
आगे बढने को सिखाती है।
आज वो जहाज उड़ाती हैं।
आटो रिक्शा भी चलाती हैं।
आन्तरिक्ष भेद कर आती हैं।
दफ्तर में हाथ बटाती हैं।
अब कम्प्यूटर भी चलाती हैं।
विद्यालय में बच्चों को पढाती हैं।
बेटी है तो भरापूरा परिवार है।
फलता फूलता यह संसार है।
बेटियां ही सृष्टि संचालक हैं
बेटी सृष्टि रचना का आधार है।

@रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'
(कान्हपुर कर्मनाशा कैमूर बिहार)
०६-०१-२०१७

Views 36
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'
Posts 3
Total Views 107
मैं रमेश कुमार सिंह 'रुद्र' कान्हपुर कर्मनाशा कैमूर बिहार का हूँ मैं शिक्षक के पद पर हाईस्कूल बिहार सरकार मे कार्यरत हूं अभी तक देश के विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं से 18 सम्मान प्राप्त कर चुका हूँ। "साहित्य धरोहर" पत्रिका के सह-सम्पादक भी हूँ लेखन -गद्य एवं पद्य दोनों विधा में!!

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia