“बेटी”

ज़ैद बलियावी

रचनाकार- ज़ैद बलियावी

विधा- गीत

((((((( बेटी )))))))
———————————

जब शाम को घर को आऊ,
वो दौड़ी-दौड़ी आए….
लाकर पानी पिलाए,
बेटी…हॉ बेटी….,
फिर सिर को मेरे दबाए,
दिन भर का हाल बताए..
फिर छोटी-छोटी ख्वाहिश,
अपनी मुझे सुनाए….
बेटी….हॉ बेटी…..
दिन हर दिन बदला जाए,
फिर वक़्त बदल ही जाए..
वो रोटी मुझे बनाए…
बेटी…हॉ बेटी….
फिर सजके बारात एक दिन,
उसको लेने आए…
और करके आँखे फिर नम,
वो दूर चली ही जए..
बेटी.. हॉ बेटी…
फिर शाम को घर जब आऊँ,
मेरी आहट उसे बुलाए..
मेरी नज़र ढूंढ न पाए,
बेटी.. हॉ बेटी….

((((( ज़ैद बलियावी)))))

Views 625
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ज़ैद बलियावी
Posts 17
Total Views 1.9k
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia