बेटी

LAKHNAWI JI (लखनवी जी)

रचनाकार- LAKHNAWI JI (लखनवी जी)

विधा- कविता

मेरी भी जमी है, है मेरा आसमां ;
मुझे भी जीने का अधिकार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !

न तोड़िये मुझे मैं नाजुक सी गुड़िया हूँ ;
मुझे भी माँ के आँचल से लिपटने का अधिकार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !

बेटी हूँ तो क्या बेटे से कम नहीं ;
तेरे साये में हूँ तो कोई भी ग़म नहीं ;
न छोड़िये मुझे इस अँधेरे में अकेला ;
मुझे भी उजालों का संसार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !

न धन – न दौलत पर मुझे अधिकार चाहिए ;
मैं अंश हूँ आप दोनों के अंग का ;
मुझे ममता के साये में रहने का अधिकार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !

न छोड़िये अकेला मुरझा जाऊंगी मैं ;
फूल हूँ, मुझे भी महकने का अधिकार चाहिए ;
माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए !!
@lakhnawiji (7071497236)
www.facebook.com/lakhnawiji

Views 124
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
LAKHNAWI JI (लखनवी जी)
Posts 4
Total Views 154

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia