बेटी

संगीता शुक्ला

रचनाकार- संगीता शुक्ला

विधा- कविता

शक्ति का संचार है बेटी
भक्ति का द्वार है बेटी
मुक्ति का मार्ग है बेटी
सृजन संसार है बेटी
मन का भाव है बेटी
रामायण का पाठ है बेटी
गीता और कुरान है बेटी
गीत भी संगीत भी बेटी
चेहरे की मुस्कान है बेटी
मस्जिदों की अज़ान है बेटी
अभिमान है, सम्मान है बेटी
ग्रंथो की हर पंक्ति है बेटी
न जाने क्या क्या है बेटी
फिर भी ?
न जाने क्यों शोषित है बेटी
गर्भ में क्यों मर रही है बेटी
तलाक से क्यों लड़ रही है बेटी
क्यों जीवित अभिशाप है बेटी

माँ अगर सम्मानित है सभी
साहित्य की विधाओ और शायरी में
क्यों भूल जाते है सब वह भी थी बेटी

Views 85
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia