बेटी तुझे बचाऊँगा मैं

shyam sundar

रचनाकार- shyam sundar

विधा- कविता

दृढ़ निश्चय कर लिया है,
भेदभावी दीवार गिरा के,
दुनिया तुझे दिखाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

कलम की धार से ,
काट…झड़े रूढ़ियों की,
जुल्मी से लड़ जाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

कभी माँ,कभी बहू
तो कभी,
गीत बेटी के गाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

दे प्रहार शब्द बाणों का,
अपराधी को…
दोष ज्ञान कराऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

चिटठा ले शब्दों का,
निकल गया हूँ देश में,
हर घर पहुँच जाउँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं।

बिन बेटी….
बंजर सी हो रही धरा पर,
फिर से काली खिलाऊँगा मैं
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं।

जन्म के बाद भी,
डर नहीं होगा तुझे,
हक़ बराबरी का,दिलाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं।

पढ़ शब्द श्याम के…
अबला से सबला हो जायेगी तू,
रचना ऐसी लिख जाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं।

तू अकेली लड़ जायेगी,
गुंडा, चोर, लफंगों से,
शक्तिरूपा बनाऊँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।

तू धरती लोक की परी
देख तुझे तरसेगा बेटा..
कि जन्म बेटी का पाउँगा मैं,
हाँ बेटी तुझे बचाऊँगा मैं ।
……✍ श्यामसुन्दर
मुण्डवा (नागौर),राजस्थान

Sponsored
Views 715
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
shyam sundar
Posts 1
Total Views 715
मैं श्यामसुन्दर मुंडवा जो की राजस्थान के नागौर जिले के मुंडवा शहर से हूँ । मैं ग़ज़ल/कविता/मुक्तक और अन्य विधाओं पर भी लिखता हूँ। मैंने 2015 में बी.एस सी. गणित से किया है और अब कॉम्पिटीशन की तैयारी और ज्यादा से ज्यादा कलम की धार चलाता हूँ श्यामसुन्दर s/o ओमप्रकाश ग्राम/शहर:-मारवाड़ मुण्डवा, जिला :-नागौर राजस्थान पिन कोड :-341026 मोबाईल नम्बर :-8854017305

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia