बेटी की चिट्ठी

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- कविता

🌹🌹🌹🌹
एक बिटिया लिखने बैठी चिट्ठी,
याद आई घर-आँगन की मिट्टी।

माँ की ममता,स्नेहिल-सी गोदी,
पापा की प्यार से भरी थपकी।
दादा – दादी की थी लाडली,
भाई-बहन की प्यार भरी झप्पी।
वो सखी-सहेली,स्कूल की छुट्टी,
लड़ना,झगड़ना,हो जाना कट्टी।

एक बिटिया लिखने बैठी चिट्ठी,
याद आई घर-आँगन की मिट्टी।

विदा होकर ससुराल है आयी,
नये रिस्ते,नई पिया की नगरी।
साथ ले आई यादों की गठरी,
सिखा-समझा,संस्कार की पेटी।
एक क्षण में कैसे हो गई बड़ी,
कल थी जो छोटी-सी बच्ची।

एक बिटिया लिखने बैठी चिट्ठी,
याद आई घर आँगन की मिट्टी।

नई-नई दुनिया है स्वप्निल-सी,
आँखे नम आज संग माँ नहीं।
गुड्डा-गुड़िया वहीं कहीं पड़ी,
सामने है जिम्मेदारी खड़ी।
पापा के पलकों में पली बढ़ी,
कितनी थी अपने घर पर जिद्दी।

एक बिटिया लिखने बैठी चिट्ठी,
याद आई घर-आँगन की मिट्टी।
🌹🌹🌹🌹—लक्ष्मी सिंह

Views 586
Sponsored
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 143
Total Views 43.9k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia