बेटी का दर्द-अपना समझती हूँ मैं

sushil sharma

रचनाकार- sushil sharma

विधा- कविता

बेटी का दर्द-अपना समझती हूँ मैं
सुशील शर्मा

रोपित किया तुमने मुझे पुत्र की चाह में।
फिर भी तुम्हारे अनचाहे प्यार को अपना समझती हूँ मैं।
पीला जर्द बचपन स्याह बन कर गुजर गया।
माँ के सशंकित प्यार को अपना समझती हूँ मैं।
अपने हिस्से का भी उसको छुप कर खिलाया था।
उस भाई की बेरहम मार को अपना समझती हूँ मैं।
कर दिया विदा मुझे अपने घर से अनजान के साथ।
उस अजनबी घर के बुरे व्यवहार को अपना समझती हूँ मैं।
जिसे छाती से चिपका कर अपना लहू पिलाया था।
उस पुत्र दुत्कार को अपना समझती हूँ मैं ।
कभी यशोधरा कभी सीता कभी मीरा सी ठुकराई।
सभी बुद्धों ,सभी रामों सभी गैरों को अपना समझती हूँ मैं ।
चाह कर भी न कर सकी प्रतिरोध इन सबका।
सभी अन्यायों आक्रोशों को अपना समझती हूँ मैं।
देह के रास्ते से गुजरे सभी रिश्ते।
हर रिश्ते से उभरे घाव को अपना समझती हूँ मैं।
सामाजिक दायरों में जहाँ रिश्ते सिसकते हों।
उस डरी ,सहमी ,सुबकती औरत को अपना समझती हूँ मैं।

Views 38
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
sushil sharma
Posts 9
Total Views 166
सुशील कुमार शर्मा S/o श्री अन्नीलाल शर्मा ज्ञानदेवी शर्मा शिक्षा-M Tech(Geology)MA(English) पारिवारिक परिचय पत्नी-डॉ अर्चना शर्मा साहित्यिक यात्रा-देश विदेश की विभिन्न पत्रिकाओं समाचार पत्रों में करीब 500 रचनाएँ प्रकाशित। मेरी पांच पुस्तकें प्रकाशनाधीन1.गीत विप्लव2.विज्ञान के आलेख3.दरकती संवेदनाएं4.सामाजिक सरोकार 5.कोरे पन्ने(हाइकु एवम तांका )मेरी रचनाओं का प्रकाशन- प्रतिलिपि,सरिता , अभिव्यक्ति,

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia