बेटी का खत

सत्य प्रकाश

रचनाकार- सत्य प्रकाश

विधा- कविता

मैं तेरे आंगन की तुलसी मेरी आँखें बरस रही
प्यार के मीठे बोलो को मैं तो कब से तरस रही
मां की गोद मिली न मुझको न बाबुल का प्यार मिला
दादी ने खिलाया न ही बेटे सा सत्कार मिला
कहा गई वो थाली जो भैया के वक्त बजाई थी
मेरे होने पर मातम भैया पर गाई बधाई थी
लड़की हो कर जन्म लिया क्या इसमें दोष विधाता का
पाप नहीं हूँ शाप नहीं हूँ कलंक नहीं मैं माता का
धन दौलत ना हार चाहिए बस ये ही उपहार मांगती
मां की गोद में मीठी थपकी और बाबुल का प्यार मांगती
राखी के धागों में लिपटा थोड़ा सा दुलार चाहिये
नन्ही कोपल को खिलने का जीने का अधिकार चाहिए
हस्ती मेरी कुछ नहीं माना एक बेटे के सामने
लेकिन लडकी ही तो आएगी वंश तुम्हारा थामने
हमे कोख में मारने वालों तुम बहु कहां से लाओगे
पेड़ की जड़ काट रहे तुम फल कहा से पाओगे
जीवन की मुस्कान बेटियाँ ईश्वर का वरदान बेटियाँ
पराई नहीं अपनी सी बेटों सी संतान बेटियाँ
बोझ नहीं गम नहीं बेटी बेटे से कम नहीं
बेटी को बचाना है बेटी को पढ़ाना है यही संदेश फैलाना है

Views 25
Sponsored
Author
सत्य प्रकाश
Posts 17
Total Views 190
अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है साहित्य l समाज के साथ साथ मन का भी दर्पण है l अपने विचार व्यक्त करने का प्रयास है l
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia