बेटियों की हाय (कविता)

Onika Setia

रचनाकार- Onika Setia

विधा- कविता

बेटिओंकी हाय (कविता)

सितम से हार कर जब,

लब हो जाते हैं खामोशें।

अपने हक केलिए लड़ते हुए'

जब ख़त्म हो जाये जोश ।

जब टूट जाती है शैतानो की सीमायें ।
और वह गुरुर में अंधे होजाएं.

ज़ुल्म के नशे में चूर हो जायें ।

पागल हो जायें .

तब ! हाँ तब !

लेती है कुदरत अंगड़ाई ।

एक कयामत उभरती है.

सब तरफ बर्बादी देती है दिखाई ।

तब यह ख़ामोशी, यह आह,

तूफान बनकर टूटती है ।

बरसों से दबी ,कुचली हुई ताक़त,

ज़लज़लों से झूझती है ।

साथ जो मिल जाय एक बार समय का,

उसके तो फिर कहने ही क्या!

करवट बदल ले वोह बस एक बार!

तो रावण भी क्या !

उखाड़ सकती है पाप की जड़ को.

एक मजबूर, मजलूम और मासूम की हाय ,

क्या रंग लाती है ?

जब कहकशां टूट कर शैतानो पर गिरती है ।

तो यह जानलो ताक़त वालो!,

ज़ुल्म की भी सीमा होती हैें।

जब जोश में आती है कुदरत ,
और रंग लाती है बेटियों की हाय ।

Sponsored
Views 567
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Onika Setia
Posts 32
Total Views 1.6k
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक , लिंक्ड-इन , दैनिक जागरण का जागरण -जंक्शन ब्लॉग, स्वयं द्वारा रचित चेतना ब्लॉग , और समय-समय पर पत्र-पत्रिकाओं हेतु लेखन -कार्य , आकाशवाणी इंदौर केंद्र से कविताओं का प्रसारण .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia