बेटियां

डॉ. शिव

रचनाकार- डॉ. शिव "लहरी"

विधा- कविता

बेटीयां है अनमोल,
इनको तु ना तोल।
बेटे से बढकर ही,
ये करती रखवाली है।।
माँ की सहेली है ये,
पिता की चिड़कोलि है।
भाई के लिए तो जैसे,
दुआवों की थाली है।।
क्यों है कुलदीपक की चाह,
भूली क्यों है ये गृह मां।
बेटी भर देती है भंडार,
जैसे लक्ष्मी संग दिवाली है।।
क्यों है फिर भी संशय,
पुरुषप्रधान ही क्यों है मतव्य।
क्या युद्ध के हालत में भी,
सुनी नहीं रानी लक्ष्मी की थाति है।।
बेटी से चलता है कुल,
भ्रम में जाते हो भूल।
क्या बेटियों के बिना ही,
बहुओं की कल्पना की जाती है।।
बेटियों को तू इतना समझ,
संसार की दिव्य सत्ता समझ।
चाँद नहीं ये सूरज है,
दुर्गा जैसी बेटियों से ये धरा थर्राई है।।
बेटियां है अनमोल,
इनको तू ना तोल।
बेटे से बढकर ये,
करती रखवाली है।।

Views 122
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ. शिव
Posts 6
Total Views 509
साहित्य सेवा के रूप में सामाजिक विकृतियों को दूर करने में व्यंगविधा कविता रूप को लेखन में चुना है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia