बेटियाँ

कमल शर्मा

रचनाकार- कमल शर्मा

विधा- गज़ल/गीतिका

माँ का साया है तो बेटी बाप का गुरूर है !
शान है ससुराल की तो मायके का नूर है !!
आज के इस दौर में बेटा बेटी एक से,
फ़र्क़ करते दोनों में दिमाग का फितूर है !
मानता हूँ बेटियाँ काँधा देने से महरूम है,
बेटी बेहतर बेटों से, इतना मगर ज़रूर है !
है तक़ाज़ा वक़्त का बेटी बचा बेटी पढ़ा,
कौनसी गफलत में तू किस नशे में चूर है !
नज़्म है "कमल " की ये, पढ़ना ज़रा अदब से तुम,
नज़्मे सियासत है नहीं ये, बेटी का मज़कूर है !
(महरूम=वंचित, नज़्मे सियासत=राजनीति की कविता, मज़कूर=वर्णन )

Views 56
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
कमल शर्मा
Posts 2
Total Views 59
"कमल" तो सिर्फ शायरी का तालिब है! उस्ताद तो आज भी मीर-औ-ग़ालिब है!

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia