*बेटियाँ*

Dharmender Arora Musafir

रचनाकार- Dharmender Arora Musafir

विधा- गज़ल/गीतिका

आसमां छू रही आज हैं बेटियाँ !
इक महकता हुआ राज़ है बेटियाँ !!

देश के मान को जग में ऊँचा किया !
कम किसी से कहाँ आज हैं बेटियाँ !!

एक कुल का बने मान बेटा मगर!
दो कुलों की रखें लाज हैं बेटियाँ!!

गीत बनकर सभी के दिलों में बसे !
वो सुहाना हसीं साज़ हैं बेटियाँ!!

उस खुदा ने अता की हमें नेमतें!
ये "मुसाफ़िर" कहे ताज है बेटियाँ!!

धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफ़िर"

Views 151
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dharmender Arora Musafir
Posts 76
Total Views 902
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia