*बेटियाँ*

Dharmender Arora Musafir

रचनाकार- Dharmender Arora Musafir

विधा- गज़ल/गीतिका

आसमां छू रही आज हैं बेटियाँ !
इक महकता हुआ राज़ है बेटियाँ !!

देश के मान को जग में ऊँचा किया !
कम किसी से कहाँ आज हैं बेटियाँ !!

एक कुल का बने मान बेटा मगर!
दो कुलों की रखें लाज हैं बेटियाँ!!

गीत बनकर सभी के दिलों में बसे !
वो सुहाना हसीं साज़ हैं बेटियाँ!!

उस खुदा ने अता की हमें नेमतें!
ये "मुसाफ़िर" कहे ताज है बेटियाँ!!

धर्मेन्द्र अरोड़ा "मुसाफ़िर"

Views 146
Sponsored
Author
Dharmender Arora Musafir
Posts 69
Total Views 705
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia