बेटियाँ

Naveen Jain

रचनाकार- Naveen Jain

विधा- कविता

बेटियाँ

कोमल फूल की कली सी होती हैं बेटियाँ ।
माँ बाप के लाड़ में पली होती हैं बेटियाँ ।।
खुशी का पिटारा होतीं हैं बेटियाँ ।
घर का सितारा होतीं हैं बेटियाँ ।।
विनम्रता और लज्जालुता हैं उनके गुण ।
बेटियाँ होतीं हर कार्य में निपुण ।।
बेटियाँ बहादुर वीरांगनाएँ हैं ।
बेटियाँ विश्व की गौरव गाथाएँ हैं ।।
बेटियाँ सिर्फ दो कुलों का ही नहीं करतीं हित ।
बेटियाँ नहीं होने देतीं किसी का भी अहित ।।
बेटियों से नव कल्पनाएँ हैं ।
बेटियाँ मंगल कामनाएँ हैं ।।
बेटियों को खुले आसमान में उड़ान भरने दो ।
बेटियों को नित नए इतिहास गड़ने दो ।।
बेटियाँ मान – सम्मान हैं ।
बेटियाँ विश्व की शान हैं ।।
बेटियों ने जब दिखाया अपना कौशल ।
सम्पूर्ण विश्व रहा चकित एक पल ।।
बेटियाँ अबला नहीं, बलवान हैं ।
बेटियों से ये जहान हैं ।।
बेटियाँ कभी बहिन रूप में भाई को स्नेह देती ।
बेटियाँ कभी माँ रूप में बच्चों को स्नेह धारा में डुबोती ।।

– नवीन कुमार जैन

Sponsored
Views 147
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Naveen Jain
Posts 30
Total Views 1k
नाम - नवीन कुमार जैन पिता का नाम - श्री मान् नरेन्द्र कुमार जैन  माता का नाम - श्री मती ममता जैन  स्थायी पता - ओम नगर काॅलोनी, वार्ड नं.-10,बड़ामलहरा, जिला- छतरपुर, म.प्र. पिन कोड - 471311 फोन नं - 8959534663 वाट्सऐप नं.- 9009867151 ई मेल - naveenjainnj2701@gmail.com शिक्षा- कक्षा 12वीं (अध्ययनरत) जन्म तिथि- 27/01/2002 प्रकाशन विवरण - स्वरचित पुस्तक- मेरे विचार 

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia