बेटियाँ पीहर से प्यार मांगती[कविता ]

rekha mohan

रचनाकार- rekha mohan

विधा- कविता

बेटियाँ पीहर से प्यार मांगती,
अपनापन भरा इकरार नापती।
बेटी समपर्ण से धन घटता नही ,
बड़प्पन सजी सौगात ताकती है|
बेटियाँ पीहर आती ज़ड़े सींचती हैं,
सुन सभी भाई- खुशी रीझती है।
सुनहली बचपन यादे गूँजती है ,
नजर उतार सब भतीजे ढूढ़ती |
शगुन मना फले मन्था टेकती ,
आशीष दे बस कामयाबी देखती।
नहाने आती मैके नेह -निर्झरी ,
सुखों चंदन बनी खुशबू उड़ेलती।
रेखा मोहन २२ /१/२०१७

Sponsored
Views 768
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
rekha mohan
Posts 7
Total Views 1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia