बेटियाँ पढ़ाइये

संजय कौशिक

रचनाकार- संजय कौशिक "विज्ञात"

विधा- गीत

*●अनंद छंद●*
आधारित गीत
शिल्प ~ [जगण, रगण, जगण, रगण + लघु गुरु]
   {121 212 121 212 12}

करो प्रचार खूब बेटियाँ पढ़ाइये ।
विचार नेक आज बेटियाँ बचाइये ।।

जगे प्रभाव ज्ञान से समाज ये अभी ।
मशाल थाम के चलो रुको नहीं कभी ।।
सुझाव मानते हुऐ यहाँ बढ़ो सभी ।
बनो प्रतीक तेज आज प्रेरणा तभी ।।
स्वभाव से मुदा हिये सुता बसाइये …….

बने प्रकाश लोग मार्ग देख के चलें ।
न अन्धकार कालिमा कहीं नहीं पलें ।।
थके नहीं डटे नहीं कभी अड़ान पे ।
रुके नहीं उड़े चले सदा उड़ान पे ।।
सँवार दे जहान को इन्हें उड़ाइये ……..

बने मकान यूँ विशाल आसमान में ।
दिखा चुकी उड़ान कल्पना जहान में ।।
तमाम कल्पना नवीन बेटियाँ बनें ।
सधी हुई पढ़ी प्रवीण बेटियाँ बनें ।।
बिना पढ़ी यहाँ न बेटियाँ बनाइये ……

करे पिता व मात कर्म गाँव गाँव में ।
प्रधान पंच लें कमान धूप छाँव में ।।
करो सभी बचाव के प्रयास बेटियाँ ।
दिखा चलो मिले सही विकास बेटियाँ ।।
उदारता महान संजु रोज गाइये ……..

पता:
संजय कौशिक "विज्ञात"
शॉप न. 7 शॉपिंग कॉम्प्लेक्स
बिहोली रोड समालखा पानीपत
हरियाणा 132 101
संपर्क सूत्र 9991505193

Sponsored
Views 335
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia