बेटियाँ — निवातिया डी. के.

डी. के. निवातिया

रचनाकार- डी. के. निवातिया

विधा- कविता

बेटियाँ

घर आँगन की पहचान होती है बेटियाँ
हर चेहरे की मुस्कान होती है बेटियाँ
राम, कृष्ण भी लेकर आते है अवतार
ममता का ऐसा भण्डार होती है बेटियाँ !!

चंदन की खुशबु सी महकती है बेटियाँ
बन कोयल सी मधुर कूकती है बेटियाँ
चहकता है इनसे घर का कोना – कोना
चिड़ियों सी आँगन में झूमती है बेटियाँ !!

अपने हाथो से द्वार सजाती है बेटियाँ
स्वच्छता की पहचान बनती है बेटियाँ
कलि, फूल, खुशबु बन महकाती आँगन
घर को जन्नत का रूप देती है बेटियाँ !!

गुलशन सा आशियाना बनाती है
जंहा पड़े कदम पह्चान बनाती है
लक्ष्मी, सरस्वती, बनकर आती है
खुशियो का खजाना होती है बेटियाँ !!

सूरज की किरणों सी दमकती है
चंद्र की शीतलता सी चमकती है
सितारों की तरह वो झलकती है
जलते दीपक की लौ होती है बेटियाँ !!

हर पूजा, प्रार्थना यज्ञ की स्वामिनी
अग्नि, वायु, पृथ्वी समरूप तारिणी
सम्पूर्ण सृष्टि की जो जीवन दायिनी
जीने का मूल मंत्र होती है बेटियाँ !!

!

!
!

D. K. Nivatiya
निवातिया डी. के.

Sponsored
Views 376
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डी. के. निवातिया
Posts 172
Total Views 27k
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का ह्रदय से आभारी तथा प्रतिक्रियाओ का आकांक्षी । आप मुझ से जुड़ने एवं मेरे विचारो के लिए ट्वीटर हैंडल @nivatiya_dk पर फॉलो कर सकते है. मेल आई डी. dknivatiya@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia